शिकागो में स्वामी विवेकानन्द

Updated: Jan 29


9/11 यानि एग्यारह सितम्बर की तिथि एक तरफ जहां अमेरिका के शिकागो में स्वामि विवेकानंद द्वारा विश्वशांति का संदेश देने के लिए आज से 128 वर्ष पहले से जाना जाता है। वहीं दूसरी तरफ 9/11 यानि एग्यारह सितम्बर 2001की तिथि हाल के वर्षों के विश्व के सबसे बडी अशांति और धमाके के लिए जाना जाता है, जो ओसामा-बिन-लादेन द्वारा अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर विमानों के हमले से हुआ था।

हमारा देश हमेंशा से शांति का अग्रदूत रहा है। हम यहाँ उस घटना को याद करना चाहते हैं जो 11 सितंबर 1893 को अमेरिका के शिकागो में घटी थी। कितनी विडम्बना है कि दोनों तिथि एक ही है लेकिन दोनों के मकसद ठीक एक दूसरे के विपरीत। जब शिकागो में भारत का 30 वर्ष का एक नवयुवक शान्ति का बिगुल बजाकर, दुनिया में एक मिशाल कायम कर, दुनिया को भारत का लोहा मानने को मजबूर कर दिया। आइये, हम जानते हैं वह नवयुवक कौन था और उनके द्वारा अपने भाषण में क्या कहा गया?

वह नवयुवक कोई और नहीं बल्कि भारत के युवा सन्यासी स्वामी विवेका नन्द थे। जिनका पूरा नाम था नरेंद्र नाथ दत्त, जिन्हें बचपन में नरेन नाम से पुकारा जाता था। अवसर था विश्व धर्म संसद और स्थान था मिशिगन झील के तट पर बसा हुआ शहर शिकागो। जहां विश्व के एक से बढ़कर एक विद्वान उपस्थित थे । सबों को अपने अपने धर्म की श्रेष्ठता सिद्ध करनी थी। स्वामी जी की बारी आयी। यह अवसर तो था धर्म पर विचार विमर्श का लेकिन दूसरों को छोटा और खुद को बड़ा समझने वाले, पश्चिमी सभ्यता के धर्मज्ञाता कहलाने वाले विद्वानो के बीच उन्हे देखकर फुसफुसाहट शुरू हो गयी। कोई कहता यह कैसी वेश-भूसा वाला ब्यक्ति है। कोई कहता बड़ी बड़ी बातें करता है भारत , खुद को विश्व की प्राचीनतम सभ्यता कहता है भारत। लेकिन, इतनी बड़ी सभा में एक भगवा धारी को भेज दिया। हमारे अनुभवी विद्वानो के आगे यह नव युवक क्या बोल पाएगा यह तो हमारे तर्को के वार को सहन भी नहीं कर पाएगा, टूट जाएगा। कोई कुछ, कोई कुछ कह कर मन ही मन हंस रहे थे। इस तरह की बातें कर वे सभी स्वामी जी के आत्म विश्वास को हिलाने की कोशिश में लग रहे थे। भारत को हीन दृष्टि से देखने वाले वे सभी भारत का पूरी तरह मज़ाक उडा रहे थे।

इस ब्लॉग के अगले भाग में पढ़िये विश्व धर्म संसद में उन्होने क्या कहा जिसकी गूंज आज तक सुनाई देती है?


:--- मोहन "मधुर"

37 views2 comments

Recent Posts

See All